Rest of Europe News : हवा में कोरोना का पता लगा लेगी यह डिवाइस, रूसी वैज्ञानिकों ने किया दावा – russian scientists create trigger-bio detector device to detect coronavirus in the air


मॉस्को
रूस के वैज्ञानिकों ने एक ऐसे डिवाइस को बनाया है जो हवा में कोरोना वायरस की उपस्थिति का पता लगा लेगी। इस डिवाइस को रूस की नेशनल न्यूक्लियर रिसर्च यूनिवर्सिटी के वैज्ञनिकों ने तैयार किया है। जिसमें एक अति संवेदनशील सेंसर को लगाया गया है जो सबसे कम सांद्रता पर भी हवा में कोरोना वायरस के होने की जानकारी दे सकती है। इस डिवाइस को ट्रिगर-BIO डिटेक्टर नाम दिया गया है।

भीड़भाड़ वाली जगहों पर होगी उपयोगी
यूनिवर्सिटी की प्रेस सर्विस ने एक बयान में कहा है कि यह डिवाइस अपने एनालॉग्स की तुलना में कई गुना अधिक कॉम्पैक्ट और अधिक सटीक है। यह भीड़भाड़ वाली जगह पर तेजी से संक्रमण के स्तर को पता लगाने में सहायक सिद्ध होगी। अगर किसी सार्वजनिक जगह पर कोरोना वायरस की उपस्थिति हुई तो यह अलर्ट जारी कर सकती है। इसके डेवलपर्स का कहना है कि इस मशीन को एयरपोर्ट, मेट्रो या रेलवे स्टेशन जैसे सार्वजनिक स्थानों पर तैनात करने के लिए बनाया गया है।

परीक्षण के दौरान डिवाइस ने दिए सटीक रिजल्ट
आधिकारिक परीक्षण के दौरान ट्रिगर-BIO डिटेक्टर डिवाइस ने एक से दो सेकेंड में ही हवा में कोरोना वायरस के उपस्थिति का पता लगाया है। वैज्ञानिकों ने बताया कि पहले चरण में यह डिवाइस प्रदूषकों को अलग-अलग करता है। जिसके बाद से हवा में मौजूद वायरस, बैक्टीरिया और बैक्टीरियल विषाक्त पदार्थों सहित किसी भी प्रकार के बायोजेनिक एरोसोल की पहचान करता है।

बच्चों को मास्क पहनाना चाहिए या नहीं? WHO ने जारी किए नए नियम

पहले भी ऐसी डिवाइस बना चुका है रूस
रूस ने अगस्त के अंतिम सप्ताह में भी दावा किया था कि उसने एक डिवाइस को बनाया है जो हवा में कोरोना वायरस की जानकारी देने में सक्षम है। लेकिन, वह डिवाइस किसी रेफ्रिजेरेटर के जितनी बड़ी थी। इस डिवाइस को डिटेक्टर बॉयो नाम दिया गया था। इस डिवाइस को रूस की केएमजे फैक्टरी ने डिफेंस मिनिस्ट्री और कोरोना वैक्सीन बनाने वाली गामालेया इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर तैयार किया था।


रेफ्रिजरेटर की तरह दिखती है पहले वाली डिवाइस
डिटेक्टर बॉयो कोई पॉकेट डिवाइस नहीं है, बल्कि यह रेफ्रिजरेटर की तरह दिखती है। बाहर से देखने में इसमें छोटी-छोटी कई प्रयोगशालाएं दिखाई देती हैं। जो हवा को खींचकर उसका टेस्ट करती हैं। मिनी प्रयोगशालाओं की श्रृंखला कोरोना वायरस की मौजूदगी का भी पता लगाने में सक्षम हैं। अपने परिणाम की पुख्ता जांच के लिए यह दो बार आसपास की हवा का टेस्ट करता है।



Source link

Leave a Reply