Petrol Diesel Price: vidhan sabha elections around the corner government may give relief on petrol diesel price – चार राज्यों में विधानसभा चुनाव, नवंबर में पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों पर लग सकता है ब्रेक


नई दिल्ली

पेट्रोल और डीजल की बढ़ती कीमतों से परेशान लोगों को जल्द कोई बड़ी राहत मिलने के आसार नजर नहीं आ रहे हैं। हां, रोज तेल के दाम बढ़ने से कुछ दिनों के लिए छुटकारा जरूर मिल सकता है या दामों में कटौती का फैसला भी लिया जा सकता है। इस ‘राहत’ की वजह लोगों की परेशानी नहीं बल्कि होनेवाले विधानसभा चुनाव होंगे। शनिवार को जहां पेट्रोल पहली बार 80 रुपये (दिल्ली) के पार पहुंच गया वहीं, डीजल भी 72.51 रुपये के रेट को छू चुका है। ऐसे में साल के अंत में चार राज्यों में होनेवाले विधानसभा चुनाव को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार नवंबर से कुछ राहत दे सकती है। इस बात का अंदेशा केंद्र सरकार के पहले के कुछ फैसलों को देखकर लगाया जा रहा है।

दरअसल, कर्नाटक चुनाव से पहले पेट्रोल और डीजल की कीमत में पूरे 20 दिन तक कोई बदलाव नहीं हुआ था। वहीं, 12 मई को वोटिंग होने के बाद लगभग 17 दिनों के भीतर ही पेट्रोल के दाम करीब 4 रुपये बढ़ गए थे। इससे पहले 16 जनवरी से 1 अप्रैल के बीच भी पेट्रोल और डीजल के दामों में बदलाव नहीं हुआ था। उस वक्त पंजाब, गोवा, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश और मणिपुर में चुनाव होने थे। ऐसी ही कुछ राहत इस साल नवंबर के आसपास दी जा सकती है, क्योंकि साल के अंत में राजस्थान, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में चुनाव होने हैं।

पढ़ें:
इसलिए देने पड़ते हैं पेट्रोल, डीजल के दोगुने दाम

रोज बढ़ रहे दाम

दिल्ली समेत बाकी राज्यों में तेल के दाम रोज बढ़ रहे हैं। दिल्ली में पेट्रोल पहली बार 80 रुपये के पार हो गया है। शनिवार को दिल्ली में पेट्रोल 39 पैसे महंगा होकर 80.38 रुपये प्रति लीटर हो गया जबकि डीजल 44 पैसे महंगा होकर 72.51 रुपये प्रति लीटर पर पहुंच गया। इस बीच, मुंबई में पेट्रोल की कीमत 38 पैसे बढ़कर 87.77 रुपये प्रति लीटर जबकि डीजल की कीमत 47 पैसे बढ़कर 76.98 रुपये प्रति लीटर हो गई है।

उत्पादन शुल्क में कटौती नहीं

पेट्रोल और डीजल की आसमान छूती कीमतों के बीच केंद्रीय पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा है कि सरकार उत्पाद शुल्क घटाने पर विचार नहीं कर रही है क्योंकि यह इस मुद्दे का प्रभावी हल नहीं है। उन्होंने तेल को फिर से गुड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स (जीएसटी) में लाने की बात कही।

विपक्षी पार्टियां होंगी एकजुट

तेल की बढ़ती कीमत से राहत नहीं मिलने पर कांग्रेस पार्टी ने केंद्र सरकार के खिलाफ भारत बंद का आह्वान लिया है। कांग्रेस 10 सितंबर को भारत बंद करेगी। यह प्रदर्शन सुबह 9 बजे से दिन में तीन बजे तक होगा ताकि आम जनता को दिक्कत नहीं हो। पार्टी ने अन्य विपक्षी दलों, सामाजिक संगठनों और सामाजिक कार्यकर्ताओं का आह्वान किया है कि वे ‘भारत बंद’ का समर्थन करें।





Source link

Leave a Reply