King Maha Vajiralongkorn: जर्मनी में अकेलेपन में जीने को मजबूर थाइलैंड के राजकुमार, घर से बाहर निकलने की नहीं इजाजत – the son of thailand king lives life in loneliness and rejection


Edited By Akansha Kumari | नवभारतटाइम्स.कॉम | Updated:

बर्लिन

थाइलैंड के राजकुमार जर्मनी में अपने पिता से दूर जेल जैसी स्थिति में बिल्कुल अलग-थलग रह रहे हैं जहां से उन्हें बाहर निकलने की आजादी नहीं है। राजकुमार जिपांगकोर्न रश्मिजोति (15) एक बंगले में रहते हैं जहां उनके साथ दो दर्जन नौकर हैं, जबकि पिता महा वाजिरालॉन्गकोर्न (67) ने उनसे दूर एक होटल में सेल्फ आइसोलेट कर लिया है जिसमें उनकी सेक्स स्लेव्स भी रहती हैं।

जर्मनी के अखबार बिल्ड के मुताबिक, उनकी सेक्स सोल्जर्स को मिलिटरी यूनिट के रूप में रखा गया है जिसे SAS बुलाया जाता है। राजकुमार का जन्म 29 अप्रैल 2005 को हुआ था। उसकी मां राजकुमारी श्रीरश्मि (48) राजा की तीसरी पत्नी हैं और 2014 में उन्होंने राजा से तलाक ले लिया था। उन्हें तलाक के बाद राजा की तरफ से 40 करोड़ डॉलर मिली थी लेकिन बेटे की कस्टडी नहीं मिली।

अखबार का कहना है कि उसके बाद राजकुमार का उनकी मां से कोई संपर्क नहीं है। उनके पिता अपने बेटे से 40 मील दूर दक्षिणी राज्य बावरिया में 20 सेक्स स्लेव्स के साथ रह रहे हैं। बताया जाता है कि राजा ने होटल का चौथा फ्लोर पूरी तरह से बुक कर लिया है।

महल के पूर्व कर्मचारी ने बताया कि राजकुमार ऑटिस्टिक हैं और इसलिए उन्हें जर्मनी लाया गया है। बताया जाता है कि राजा अपने बेटे की बीमारी से शर्म महसूस करते हैं। चूंकि दिपांगकोर्न उनके एकमात्र उत्तराधिकारी हैं इसलिए उन्हें जनता से दूर रखा गया है।



Source link

Leave a Reply