Economy News In Hindi : Right issue at a low price, Rs 6.50 per share dividend and 80% return from the stock in a month | कम भाव पर राइट इश्यू, 6.50 रुपए प्रति शेयर डिविडेंड और एक महीने में शेयर से 80 प्रतिशत का रिटर्न


  • मार्केट कैपिटलाइजेशन 9,30,000 करोड़ रुपए के पार पहुंचा
  • कंपनी की जीरो डेट की योजना से शेयर में दिख सकती है अच्छी तेजी

दैनिक भास्कर

Apr 30, 2020, 09:16 PM IST

मुंबई. बाजार कैपिटलाइजेशन के लिहाज से देश की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज को मार्च तिमाही में भले ही घाटा हुआ हो, लेकिन उसने निवेशकों के हित में दो फैसले लिए हैं। एक तो कम भाव पर कंपनी ने राइट इश्यू लाने का फैसला किया है और दूसरा डिविडेंड दिया है। साथ ही इसका शेयर पिछले एक महीने में पहले ही निवेशकों को 80 प्रतिशत का रिटर्न दिया है। कंपनी का बाजार कैपिटलाइजेशन गुरुवार को 9.30 लाख करोड़ रुपए को पार कर गया।

निवेशकों के लिए दो बडे़ फैसले

बोर्ड बैठक में फैसला हुआ कि राइट इश्यू 1257 रुपये प्रति शेयर के भाव पर लाया जायेगा। राइट इश्यू की साइज 53,125 करोड़ रुपये की होगी। इस राइट इश्यू के तहत 15 शेयर पर एक राइट शेयर जारी होगा। इसके अलावा कंपनी के बोर्ड ने 6 रुपये 50 पैसे प्रति शेयर डिविडेंड के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी है।

तीन दशक में पहली बार इश्यू

आरआईएल ने तीन दशक बाद पहली बार कोई इश्यू लाने का निर्णय लिया है। इसके तहत कंपनी राइट इश्यू लाएगी और इससे 53,125 करोड़ रुपए जुटाएगी। इसका प्राइस 1-15 के अनुपात में होगा। यह राइट इश्यू कंपनी की उस योजना का हिस्सा है, जिसमें वह वित्तीय वर्ष 2020 की पहली तिमाही तक 104,000 करोड़ रुपए जुटाने का लक्ष्य रखी है।

सालाना आधार पर लाभ बढ़ा

तिमाही आधार पर कंपनी का लाभ भले ही घटा, मगर सालाना आधार पर इसका शुद्ध लाभ मामूली यानी 0.1 प्रतिशत बढ़कर 39,880 करोड़ रुपए रहा है। इसके पहले के साल में यह 39,837 करोड़ रुपए था। सालाना आधार पर ईपीएस 5 प्रतिशत घटकर 66.8 से 63.5 रुपए रहा है। इसी तरह सालाना आधार पर कंपनी का रेवेन्यू 5.4 प्रतिशत बढ़कर 659,205 करोड़ रुपए रहा। इसके पहले के साल में यह 625,212 करोड़ रुपए रहा है।

ग्रॉस रिफाइनरी मार्जिन

कंपनी की ग्रॉस रिफाइनरी मार्जिन 8.9 डॉलर प्रति बैरल रहा है जो कि इसके पहले के साल की समान अवधि में 8.20 डॉलर प्रति बैरल था। हालांकि दिसंबर में यह 9.2 डॉलर प्रति बैरल था।

हर यूजर्स जियो के लिए प्रति माह 130.60 रुपए खर्च कर रहा

आरआईएल का टेलीकॉम बिजनेस जियो ने सालाना आधार पर 177.50 प्रतिशत और तिमाही आधार पर 72.70 प्रतिशत की ग्रोथ शुद्ध लाभ में दिखाया है। इसके सब्सक्राइबर की संख्या 26.30 प्रतिशत सालाना आधार पर बढ़कर 38.7 करोड़ हो गई है। यानी हर यूजर्स 130.60 रुपए प्रति माह खर्च कर रहा है।

जीरो डेट प्लान, फिलहाल 3,36,294 करोड़ रुपए का कर्ज

आरआईएल के ऊपर 31 मार्च 2020 तक 3,36,294 करोड़ रुपए का कर्ज था जिसमें उसके पास 1,75,259 करोड़ रुपए कैश और कैश के बराबर था। फेसबुक के अलावा कंपनी को अन्य रणनीतिक और वित्तीय निवेशकों से अच्छा रिस्पांस मिला है और इसकी घोषणा जल्द ही की जाएगी।

सेगमेंट के आधार पर इस तरह से रहा ब्रेकअप

सेगमेंट के आधार पर पेट्रोकेम एवं रिफाइनिंग तथा मार्केटिंग बिजनेस में 24.1 प्रतिशत व 3.4 प्रतिशत की सालाना आधार पर गिरावट आई है जो 32,296 करोड़ रुपए और 84,854 करोड़ रुपए रहा है। ऑयल एवं गैस से रेवेन्यू 41.50 प्रतिशत गिरकर सालाना आधार पर 625 करोड़ रुपए रहा है।

डिजिटल और अन्य रेवेन्यू में अच्छा उछाल दिखा

दूसरी ओर तिमाही आधार पर डिजिटल सेवाओं तथा रिटेल बिजनसे के रेवेन्यू में 30 एवं 4.20 प्रतिशत की वृद्धि दिखी है। यह सालाना आधार पर 18,632 करोड़ रुपए और 38,211 करोड़ रुपए रहा है। इसके कुल 387 मिलियन सब्सक्राइबर्स रहे हैं।

क्रूड ऑयल की कीमतों में गिरावट से एक्सपोर्ट रेवेन्यू में कमी 

सालाना आधार पर भारत से एक्सपोर्ट के मामले में कंपनी का रेवेन्यू 202,830 करोड़ रुपए रहा है। हालांकि इसके पहले के साल में यह 224,391 करोड़ रुपए रहा था। एक्सपोर्ट में गिरावट मुख्य रूप से क्रूड ऑयल की कीमतों मे आई कमी की वजह से हुआ।

मीडिया बिजनेस पर एक नजर, रेवेन्यू बढ़ा

कंपनी का मीडिया बिजनेस हालांकि इस दौरान फायदे में रहा। इसका कुल रेवेन्यू तिमाही आधार पर 1,464 करोड़ रुपए रहा है जो कि इसके पहले के साल की तिमाही में 1,231 करोड़ रुपए था। सालाना आधार पर यह 5,357 करोड़ रुपए रहा है।

रिटेल बिजनेस- एक साल में 1,500 स्टोर्स खुले, मार्च तिमाही में 496 खुले

रिटेल बिजनेस का रेवेन्यू तिमाही आधार पर 38,211 करोड़ रुपए रहा है जबकि सालाना आधार पर यह 162,936 करोड़ रुपए रहा है। कंपनी इसके तहत 28.7 मिलियन वर्ग फुट की एरिया को ऑपरेट करती है। इसके पहले के साल में समान अवधि में यह 22 मिलियन वर्ग फुट था। कंपनी के पास कुल 11,784 स्टोर्स है। जिसमें से 1,500 स्टोर्स एक साल मे खोले गए हैं। रिटेल स्टोर्स में आनेवाले ग्राहकों की कुल संख्या 640 मिलियन रही है। इसमें से 125 मिलियन रॉयल कस्टमर थे।

कंपनी के फाइनेंशियल रिजल्ट पर मुकेश अंबानी ने क्या कहा

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन एवं एमडी मुकेश अंबानी ने कहा, “चूंकि भारत और दुनिया फिलहाल हमारी पीढ़ी के सामने सबसे बड़ी चुनौती से जूझ रही है, इसलिए मुझे कोरोना महामारी से पैदा हुई असाधारण परिस्थितियों में भी रिलायंस के मजबूत प्रदर्शन से खुशी हुई है”।

मानव जीवन से मूल्यवान कुछ नहीं है

उन्होंने कहा, “मेरा दृढ़ विश्वास है कि मानव जीवन के मूल्य से अधिक मूल्यवान कुछ भी नहीं है। प्रत्येक मनुष्य का मूल्य, चाहे उनकी सामाजिक या आर्थिक पृष्ठभूमि कुछ भी हो। इसलिए, वैल्यू क्रिएशन का उच्चतम कार्य मानव जीवन को बचाने, मानव स्वास्थ्य सुनिश्चित करने और मानव भलाई और खुशी को बढ़ाने में है। हम रिलायंस में हमारी सफलता हमारे व्यापार और परोपकारी गतिविधियां दोनों के पैमाने पर मापते हैं और वह भी पूरी तरह से मॉरल मैट्रिक्स के आधार पर। और कोरोना वायरस से पहली महामारी के खिलाफ जारी जंग में हम अपने आप को इसी कसौटी पर कसते रहेंगे।

भारत के राष्ट्रीय प्रयास की सराहना करते हैं

आरआईएल ने रिलायंस फाउंडेशन, रिलायंस रिटेल, जियो, रिलायंस इंडस्ट्रीज और रिलायंस परिवार के सभी लोगों की मिलीजुली ताकत को सभी सरकार (केंद्र, राज्य और स्थानीय स्तर पर) और सिविल सोसाइटी दोनों के साथ मिलकर सम्मिलित प्रयासों से तैनात किया है। मैं इस अवसर पर भारतीय उद्योग के सभी लोगों के महत्वपूर्ण योगदान और कोरोना आपदा से उबरने के लिए भारत के राष्ट्रीय प्रयास की भी सराहना करता हूं।

जियो के बारे में मुकेश अंबानी ने क्या कहा

हमें खुशी है कि हमने इन कठिन समय में अपने ग्राहकों के लिए कनेक्टिविटी और कामकाज को आसान बना दिया है। जियो का हर कर्मचारी ‘ग्राहक पहले’की सोच से काम करने को प्रशिक्षित है। इससे ग्राहकों का भरपूर आशीर्वाद हमें मिल रहा है। हम अब लगभग 40 करोड़ भारतीयों की सेवा कर रहे हैं। हमारा फोकस भारत के 6 करोड़ सूक्ष्म, लघु और मझोले व्यवसायों, 12 करोड़ किसानों, 3 करोड़ छोटे व्यापारियों और अनौपचारिक क्षेत्र के लाखों छोटे और मध्यम उद्यमों पर होगा।

डिजिटल क्रांति का नेतृत्व कर रहा है जियो 

जियो भारत में डिजिटल क्रांति का नेतृत्व कर रहा है। हमारी सेवाओं को ग्राहकों द्वारा तहेदिल से अपनाया जाना हमें और अधिक बेहतर बनने के लिए प्रेरित करता है। जियो दुनिया की सबसे बड़ी डिजिटल कंपनियों में से एक, फेसबुक के साथ विकास के अगले चरण पर चल पड़ी है। हम साथ मिलकर भारत को वास्तव में डिजिटल समाज बनाने के लिए दृढ़ संकल्प हैं। हम मनोरंजन, वाणिज्य, संचार, वित्त, शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्रों में  दुनिया की सर्वश्रेष्ठ तकनीकी क्षमताओं और सर्वश्रेष्ठ कनेक्टिविटि नेटवर्क के साथ बेहतरीन डिजिटल प्रौद्योगिकी प्लेटफार्म प्रदान करेंगे।



Source link

Leave a Reply