asian countries News : आर्मेनिया और अजरबैजान की लड़ाई में अबतक 16 की मौत, युद्ध को भड़का रहा तुर्की – armenia azerbaijan war latest updates, 16 people were killed, turkey support azerbaijan


बाकू
आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच रविवार को शुरू हुए युद्ध में अबतक 16 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। मरने वालों में दोनों पक्ष के ज्यादातर आम नागरिक शामिल हैं। वहीं, तुर्की ने खुलेआम अजरबैजान का समर्थन करते हुए हर प्रकार के मदद का ऐलान किया है। तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने एक कदम आगे बढ़ते हुए आर्मेनिया के लोगों से अपने सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करने की अपील की है।

तुर्की के राष्ट्रपति भड़का रहे युद्ध
तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने विवार को अर्मेनिया के लोगों से अपने भविष्य के लिए विरोध प्रदर्शन करने का आह्वान किया। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि मैं अर्मेनियाई लोगों से आह्वान करता हूं कि वे अपने भविष्य के लिए आर्मेनिया की सरकार के खिलाफ खड़ें हों। जो उनको तबाही की तरफ धकेल रही है और कठपुतली की तरह इस्तेमाल कर रही है। हम अजरबैजान के साथ खड़े होने का ऐलान करते हैं।

अबतक 16 लोगों की मौत, 100 घायल
नागोर्नो-काराबाख सेना के उप प्रमुख अरतुर सरकिसियान ने दावा किया है कि इस लड़ाई में अबतक 16 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 100 से ज्यादा लोग घायल हैं। दोनों देश 4400 वर्ग किलोमीटर में फैले नागोर्नो-काराबाख नाम के हिस्से पर कब्जा करना चाहते हैं। वहीं, नागोर्नो-काराबाख खुद को एक स्वतंत्र देश के रूप में पेश करता है।

आर्मेनिया ने अजरबैजान के हेलिकॉप्टर्स गिराने का किया दावा
युद्ध के कारण आर्मेनिया ने अपने देश में मार्शल लॉ लागू कर दिया है और दावा किया है कि उसने अजरबैजान के दो हेलिकॉप्टरों को मार गिराया है। हालांकि, अजरबैजान ने आर्मेनिया के इस दावे को नकार दिया है। अजरबैजान के रक्षा मंत्रालय ने कहा है कि उसका एक हेलिकॉप्टर ही दुर्घटनाग्रस्त हुआ है और उसके पायलट को सुरक्षित बचा लिया गया है।

आर्मेनिया ने जारी किया टैंक उड़ाने का वीडियो
आर्मेनिया ने अजरबैजान के तीन टैंकों को उड़ाने का वीडियो भी जारी किया है। जिसमें आर्मेनिया की एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल अजरबैजान के टैंक्स को निशाना बनाते दिखाई दे रही हैं। अर्मेनियाई रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता शुशन स्टीफानन ने कहा है कि अर्मेनियाई सुरक्षाबलों ने अजरबैजान के दो हेलीकॉप्टरों और तीन टैंक्स को नष्ट कर दिया है।

आर्मेनिया और अजरबैजान में क्यों छिड़ी जंग? जानें कश्मीर से क्यों की जाती है तुलना

रूस ने युद्धविराम का किया आह्वान
रूस के रक्षा मंत्रालय ने आर्मेनिया और अजरबैजान के बीच जारी युद्ध को तुरंत रोकने की मांग की है। रूस ने कहा है कि वह मध्यस्थता कर सकता है लेकिन, इसके लिए युद्धविराम की तत्काल जरूरत है। विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया जखारोवा ने कहा कि रूसी विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव युद्धविराम के लिए दोनों पक्षों से बातचीत शुरू करने के लिए गहन संपर्क कर रहे हैं।

आर्मेनिया और अजरबैजान में शुरू हुआ भीषण युद्ध, टैंक-तोप के साथ उतरे हजारों सैनिक

किस मुद्दे को लेकर दोनों देशों में छिड़ी जंग

दोनों देश 4400 वर्ग किलोमीटर में फैले नागोर्नो-काराबाख नाम के हिस्से पर कब्जा करना चाहते हैं। नागोर्नो-काराबाख इलाका अंतरराष्‍ट्रीय रूप से अजरबैजान का हिस्‍सा है लेकिन उस पर आर्मेनिया के जातीय गुटों का कब्‍जा है। 1991 में इस इलाके के लोगों ने खुद को अजरबैजान से स्वतंत्र घोषित करते हुए आर्मेनिया का हिस्सा घोषित कर दिया। उनके इस हरकत को अजरबैजान ने सिरे से खारिज कर दिया। इसके बाद दोनों देशों के बीच कुछ समय के अंतराल पर अक्सर संघर्ष होते रहते हैं।

आर्मेनिया और अजरबैजान में जंग



Source link

Leave a Reply