Abhishek Bachchan’s response to Amitabh Bachchan’s hospitalisation rumours: ‘He is sitting right in front of me’ | 78 साल के अमिताभ बच्चन के अस्पताल में भर्ती होने की खबरों पर बोले अभिषेक-वो मेरे सामने बैठे हैं, अस्पताल में उनका डुप्लीकेट होगा


11 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

अभिषेक बच्चन ने उन खबरों पर अपना रिएक्शन दिया है जिनमें कहा जा रहा था कि उनके पिता अमिताभ बच्चन खराब स्वास्थ्य के चलते अस्पताल में भर्ती हैं। सोमवार को कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि बिग बी शनिवार से अस्पताल में भर्ती रहकर अपना इलाज करवा रहे हैं क्योंकि उन्हें कोई इंजरी हो गई है।

इस खबर को खारिज करते हुए अभिषेक ने बॉलीवुड हंगामा से बातचीत की और कहा, मैं उनसे (अमिताभ बच्चन) पूछता हूं क्योंकि वो मेरे सामने बैठे हैं। शायद अस्पताल में उनका कोई डुप्लीकेट होगा।

बिग बी को चुका कोरोना

अमिताभ इन दिनों ‘कौन बनेगा करोड़पति-12’ को होस्ट करते नजर आ रहे हैं। 78 साल के अमिताभ इसी साल 11 जुलाई को कोरोना पॉजिटिव हो गए थे। उनके साथ बेटे अभिषेक, बहू ऐश्वर्या और पोती आराध्या को भी कोरोना ने अपनी चपेट में ले लिया था। तकरीबन एक महीने तक अस्पताल में गुजारने के बाद बिग बी स्वस्थ होकर वापस लौटे थे। अभिषेक-ऐश्वर्या और आराध्या को भी अस्पताल से छुट्टी मिल गई थी। कुछ समय तक आराम करने के बाद बिग बी ने कौन बनेगा करोड़पति-12 की शूटिंग शुरू कर दी थी।

कई बीमारियों से जूझ रहे बिग बी

11 अक्टूबर 1942 को जन्मे अमिताभ बच्चन को बीते 38 साल से अस्थमा, लिवर और किडनी की समस्या है। 77 साल के इस महानायक की आंख में भी धुंधलापन बढ़ रहा है जिसके बारे में उन्होंने खुद कुछ महीने पहले बताया था। उन्हें अक्सर हेल्थ चेकअप के लिए नानावटी हॉस्पिटल जाना पड़ता है। पिछले साल अक्टूबर में भी अमिताभ बच्चन की तबीयत रात 2 बजे अचानक बिगड़ गई थी। इसके बाद उन्हें 3 दिन के लिए भर्ती कराया गया था।

25 प्रतिशत लिवर पर जीवित हैं बिग बी

गौरतलब है कि ‘कुली’ के सेट पर हुए हादसे के बाद से अमिताभ बच्‍चन को लिवर की प्रॉब्‍लम है। उनका 75 फीसदी लिवर खराब हो चुका है। वे सिर्फ 25 फीसदी लिवर पर जीवित हैं।

दरअसल, हादसे के बाद मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में जब बिग बी की हालत नाजुक बनी हुई थी, तब उनके लिए करीब 200 डोनर्स से 60 बोतल ब्लड इकट‌्ठा किया गया था।

इस दौरान एक लापरवाही भी हुई। बिग बी को हेपेटाइटिस-बी से संक्रमित व्यक्ति का खून भी चढ़ा दिया गया। इसकी वजह से उनके शरीर में संक्रमण फैला, जो लिवर सिरोसिस का कारण बना।



Source link

Leave a Reply