डॉनल्ड ट्रंप के प्रति झुकाव बढ़ा लेकिन 66% भारतीय अमेरिकी जो बाइडन के साथ : सर्वे


हाइलाइट्स:

  • इंडियास्पोरा (Indiaspora) और AAPI डेटा ने एक सर्वे कर साझा रिपोर्ट जारी की है
  • इसमें कहा गया है कि 66% भारतीय अमेरिकी बाइडन जबकि 28% ट्रंप के साथ हैं
  • कई राज्यों में भारतीय अमेरिकी वोटर पासा किसी भी तरफ पलटने की स्थिति में हैं

चिदानंद राजघट्टा, वॉशिंगटन
अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव के लिए प्रचार अभियान चरम पर है। इस बीच वहां रिपब्लिकन पार्टी के कैंडिडेट डॉनल्ड ट्रंप और डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडन (Donald Trump vs Joe Biden) के बीच भारतीय अमेरिकी मतदाताओं को रिझाने की होड़ लगी हुई है। अब एक रिसर्च रिपोर्ट के मुताबिक, अमेरिका में रह रहे हर तीन में दो (दो तिहाई) भारतीय जो बाइडन को वोट करने का मन बना रहे हैं।

निर्णायक स्थिति में भारतीय अमेरिकी

इस वोटर सर्वे में यह बात भी खुलकर सामने आ गई है कि किस तरह भारतीय अमेरिकी इस बार के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में आखिरी परिणाम का रुख मोड़ने की क्षमता में हैं। सर्वे करने वाली संस्था इंडियास्पोरा (Indiaspora) ने AAPI डेटा के साथ जारी संयुक्त रिपोर्ट में कहा कि 66% भारतीय अमेरिकी बाइडन के समर्थन में हैं जबकि 28% ट्रंप का साथ दे रहे हैं।

इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि फ्लोरिडा (87,000 भारतीय अमेरिकी मतदाता), पेन्सिलवेनिया (61,000), जॉर्जिया (57,000), मिशिगन (45,000) और उत्तरी कैरोलिना (36,000) के साथ-साथ शायद टेक्सास (1,60,000) भी उन राज्यों में शामिल हैं जहां भारतीय अमेरिकी पलड़ा किसी की तरफ झुका सकते हैं। ट्रंप को मिशिगन में 10 हजार मतों से जीत मिली ती जबकि जोरदार टक्कर वाले राज्यों के इलाका-दर-इलाका आधार पर महज दो-दो वोटों से जीत हुई थी।

इस चुनाव में बढ़ेगी भारतीय अमेरीकियों की भूमिका

AAPI डेटा के फाउंडर और यूसी रिवरसाइड में पब्लिक पॉलिसी ऐंड पॉलिटिकल साइंसेज के प्रफेसर डॉ. कार्तिक रामाकृष्णन ने कहा, ‘एक तरफ कमला हैरिस का उपराष्ट्रपति पद के लिए ऐतिहासिक नामांकन तो दूसरी तरफ राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप एवं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेहद लोकप्रिय संयुक्त रैली के कारण इस बार के चुनाव में भारतीय अमेरिकी मतदाताओं की बड़ी तादाद वोट करेगी। इस कारण चुनाव परिणाम में उनकी बड़ी भूमिका होगी।’

अमेरिका में अभी करीब 45 लाख भारतीय अमेरिकी हैं। इनमें 18 लाख भारतीय अमेरिकियों को वहां वोट देने का अधिकार है। सर्वे बताता है कि भारती अमेरिकियों में अमेरिका की राजनीति के प्रति दिलचस्पी और जागरूकता तेजी से बढ़ रही है। चूंकि इनकी तादाद उन राज्यों में अच्छी-खासी है जहां राष्ट्रपति चुनाव में कांटे का मुकाबला होता है, इसलिए अमेरिकी अल्पसंख्यक समूहों में भारतीय अमेरिकियों का महत्व बढ़ता जा रहा है।

अमेरिकी चुनाव में उनकी बढ़ती पूछ का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि सर्वे में शामिल हुए 56% भारतीय अमेरीकियों ने कहा कि इस बार के चुनाव में डेमोक्रेटिक पार्टी ने उनसे संपर्क किया जबकि 48% ने कहा कि रिपब्लिकन पार्टी ने उन्हें लुभाने की कोशिश की। ध्यान देने वाली बात यह है कि महज 31% भारतीय अमेरिकियों ने कहा कि 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनाव में उनसे राजनीतिक दलों ने संपर्क साधा था गोरों और कालों का यह प्रतिशत क्रमश 44 और 42 था।

भारतीय अमेरीकियों को लुभाने में कौन आगे?

बहरहाल, 2016 में 16% के मुकाबले इस बार के चुनाव में 28% भारतीय अमेरिकियों का ट्रंप के पक्ष में जाने का अनुमान है। पिछले चुनाव में 46% भारतीय अमेरीकी वोटरों ने खुद को डेमोक्रेट, 35% ने निर्दलीय या अन्य जबकि 19% ने रिपब्लिकन बताया था। इस बार के सर्वे में 54% भारतीय अमेरीकियों ने खुद को डेमोक्रेट, 16% ने रिपब्लिकन जबकि 24% ने खुद को निर्दलीय या स्वतंत्र वोटर बताया।



Source link

Leave a Reply