चीन में कोई नया कोरोना केस नहीं


Edited By Shatakshi Asthana | भाषा | Updated:

फाइल फोटो

पेइचिंग

दुनिया में सबसे पहले कोरोना वायरस का शिकार बने चीन में 22 मई को कोई नया मामला दर्ज नहीं किया गया। पिछले साल नवंबर 2019 से इन्फेक्शन झेल रहे चीन में तब से लेकर अब तक यह पहली बार हुआ है कि कोई भी पॉजिटिव मामला दर्ज न किया गया हो। हालांकि, 28 ऐसे नए मामले जरूर दर्ज किए गए हैं जिनमें संक्रमित व्यक्तियों में बीमारी के लक्षण नहीं दिख रहे हैं।

बिना लक्षण के इन्फेक्शन के अधिकतर मामले वुहान में सामने आए हैं। इसके अलावा देश में संक्रमण का कोई ऐसा नया मामला सामने नहीं आया, जिसमें बीमारी के लक्षण दिख रहे हों। स्वास्थ्य अधिकारियों ने शनिवार को यह पुष्टि की। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग ने बताया कि अभी तक 370 ऐसे संक्रमित लोगों को आइसोलेशन में रखा गया है, जिनमें बीमारी के लक्षण दिखाई नहीं दे रहे हैं। इन लोगों में 26 लोग विदेश से आए हैं।

कोरोना वायरस से जंग में ‘सुरक्षित’ मानी गई चीन की वैक्‍सीन, इंसानों पर परीक्षण पूरा

इन्फेक्शन के लक्षण नहीं

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि शुक्रवार को COVID-19 संक्रमण के ऐसे किसी मामले की पुष्टि नहीं हुई, जिसमें बीमारी के लक्षण दिख रहे हों। स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि प्रांत में कुल 295 संक्रमित लोगों को चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है, जिनमें संक्रमण के लक्षण नजर नहीं आ रहे हैं। स्थानीय स्वास्थ्य प्राधिकारी यह सुनिश्चित करने के लिए वुहान की एक करोड़ 12 लाख की आबादी की जांच करा रहे हैं कि यह संक्रमण दोबारा जोर न पकड़ सके। देश में कोरोना वायरस संक्रमण के कुल 82,971 मामले सामने आ चुके हैं, जिनमें से 4,634 लोगों की मौत हो चुकी है।

COVID-19: बच्चों- बुजुर्गों में वैक्सीन ट्रायल, भारत को उम्मीदें

वैक्सीन का इंसानों पर ट्रायल पूरा

चीन की कोरोना वायरस वैक्‍सीन Ad5 का 108 वॉलंटिअर्स पर इंसानी परीक्षण अब पूरा हो गया है। विशेषज्ञों पर इस वैक्‍सीन ने इंसान के अंदर रोग प्रतिरोधक क्षमता को सुरक्षित तरीके से बढ़ाया लेकिन यह कोविड-19 वायरस को पूरी तरह से खत्‍म नहीं कर सकी। उन्‍होंने कहा क‍ि मरीजों के अंदर एंटीबॉडी पैदा होना एक अच्‍छा संकेत है।

ब्रिटेन में भी जारी है काम

इस बीच कोरोना वायरस के इलाज के लिए ब्रिटेन में जिस वैक्सीन का ट्रायल हो रहा है, वह अब दूसरे फेज में पहुंच गया है। इस फेज में वैक्सीन का ट्रायल इंसानों पर शुरू हो गया है। इस एक्सपेरिमेंट के सफल होने पर इसे 10 हजार से अधिक लोगों को लगाने की तैयारी की जा रही है। भारत ने भी इस वैक्सीन के ट्रायल के 80 फीसदी सफल होने की उम्मीद जताई है।



Source link

Leave a Reply