अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन ने कहा था कि भारतीय महिलाएं सबसे कुरूप होती हैं


हाइलाइट्स:

  • अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन के टेप सामने आए
  • 1971 में भारत-US के बीच संबंधों में खटास पर दिए बयान
  • भारतीय महिलाओं को दुनिया में सबसे कुरूप बताया था
  • कहा, ‘सबसे सेक्सलेस महिलाएं, पता नहीं बच्चे कैसे होते हैं’

वॉशिंगटन
अमेरिका और दुनिया के इतिहास में सबसे चर्चित घोटालों में से एक वॉटरगेट स्कैंडल के बाद राष्ट्रपति पद से हटाए गए रिचर्ड निक्सन एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार भारत और भारतीय महिलाओं पर अपनी बेहद आपत्तिजनक टिप्पणियों को लेकर। रिचर्ड ने 1971 में भारत को डराने के लिए बंगाल की खाड़ी में अपने जहाज भी भेजे थे। अब उस दौरान दिए गए उनके बयान सामने आए हैं। आर्काइवल डेटा से पता चला है कि रिचर्ड ने कहा था कि दुनिया में सबसे कुरूप दिखने वाली महिलाएं भारतीय हैं।

वाइट हाउस में बैठक के दौरान उगला जहर
प्रिंसटन के अकैडमिक गैरी बास को नया मटीरियल मिला है। इसके मुताबिक रिचर्ड ने कहा था कि भारत की महिलाएं बेहद दयनीय हैं और भारत के लोग ‘रिपल्सिव’ (अरुचिकर) हैं। ये बयान निक्सन और उनके तत्कालीन सुरक्षा सलाहकार हेनरी किसिंगर और वाइट हाउस चीफ ऑफ स्टाफ एचआर हाल्डेमन के बीच जून 1971 में ओवल ऑफिस में हुई बातचीत के दौरान दिए गए थे। रिचर्ड निक्सन प्रेजिडेंशल लाइब्रेरी ऐंड म्यूजियम से मटीरियल को डीक्लासिफाई करने के लिए कानूनी मदद लेने के बाद बास ने यह टेप हासिल किए हैं।

भारतीयों को लेकर भरा था जहर
इस दौरान निक्सन ने कहा था- ‘इसमें कोई शक नहीं है कि दुनिया में सबसे कुरूप दिखने वाली महिलाएं भारतीय हैं। ये लोग सबसे सेक्सलेस हैं। लोग अश्वेत अफ्रीकियों के बारे में सवाल करते हैं। वहां कम से कम जानवरों जैसा चार्म होता है लेकिन भारतीय दयनीय हैं।’ भारतीयों के खिलाफ निक्सन का यह जहर वहीं नहीं खत्म हुआ। उन्होंने 4 नवंबर, 1971 को किसिंगर से कहा- ‘वे मुझे टर्न ऑफ कर देते हैं। वे दूसरे लोगों को कैसे (सेक्शुअली) टर्न ऑन करते है?’ वे आगे कहते हैं कि भारतीयों के साथ कड़ाई करना ही आसान है।

नफरत का असर नीतियों पर
इसके बाद 12 नवंबर, 1971 को भारत-पाकिस्तान तनाव पर चर्चा के बीच वह किसिगर और गृह सचिव विलियम रॉजर्स से कहते हैं- ‘मुझे नहीं पता वे बच्चे कैसे पैदा करते हैं।’ बास का कहना है कि इन टेप्स से पता चलता है कि उस काल में दक्षिण एशिया को लेकर अमेरिका की नीति पर निक्सन की इस नफरत का कितना असर रहा होगा। इन टेप्स में किसिंगर ने भले ही निक्सन के बयानों से हामी न भरी हो, वह उस दौरान बंगाल में पैदा हुए संकट के लिए भारत को जिम्मेदार बताते हैं। किसिंगर ने भारतीयों और तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को लेकर टिप्पणियों पर माफी भी मांगी थी।



Source link

Leave a Reply