अमेरिका की तुलना में अमेरिका के चुनाव


वॉशिंगटन
अमेरिका के राष्ट्रपति चुनाव नवंबर में होने वाले हैं। 21.41 करोड़ रजिस्टर्ड वोटरों के साथ यह बड़ा चुनाव होने वाला है लेकिन भारत की तुलना में यह फिर भी काफी कम है। इंस्टिट्यूट फॉर डेमोक्रेसी ऐंड इलेक्टोरल असिस्टेंस के मुताबिक पिछले साल हुए आम चुनाव में भारत में 91 करोड़ रजिस्टर्ड वोटर थे। यह संख्या अमेरिका की आबादी का तीन गुना है।

वहीं, इंडोनेशिया में पिछले साल हुए चुनाव अमेरिका की तुलना में ही थे। साल 2019 में हुए इन चुनाव में 19.2 करोड़ रजिस्टर्ड वोटर थे। यहां 8.09 लाख पोलिंग स्टेशन पर हजारों कैंडिडेट्स ने 20,500 सीटों के लिए चुनाव लड़ा था। ये चुनाव भी 6 घंटे में पूरे हो गए थे। ब्राजील में 2018 में चुनाव दो चरण में हुए थे और यहां 14.7 करोड़ रजिस्टर्ड वोटर थे। इनके बाद जायर बोल्सोनारो राष्ट्रपति बने थे।

कितने बड़े चुनाव

अमेरिका में 3 नवंबर को चुनाव होने वाले हैं और 20 जनवरी, 2021 को अमेरिका के नए राष्ट्रपति पद की शपथ लेंगे। अमेरिका में दो पार्टी सिस्टम है जिसके तहत रिपब्लिकन पार्टी के उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रंप डेमोक्रैटिक पार्टी के उम्मीदवार जो बाइडेन के खिलाफ मैदान में उतरेंगे। वहीं, भारतीय मूल की कमला हैरिस और माइक पेंस उपराष्ट्रपति पद के लिए लड़ेंगे।

कौन आगे?
वहीं, चुनाव से पहले के पोल में डेमोक्रैट कैंडिडेट जो बाइडेन (Joe Biden) रिपब्लिकन कैंडिडेट डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) से आगे निकलते दिखाई दे रहे हैं। FiveThirtyEight के सर्वे में बाइडेन के जीतने की संभावना ज्यादा बताई गई है। हालांकि, इन पोल्स में भी यह साफ कहा जा रहा है कि 2016 के चुनाव में भी डेमोक्रैट कैडिडेट हिलरी क्लिंटन आगे दिखाई दे रही थीं और ऐन मौके पर पासा पलट गया।



Source link

Leave a Reply